10वां आईएचएचए एनुअल कन्वेंशन 15 और 16 सितंबर को अलवर के तिजारा फोर्ट में होगा आयोजित

94


– “अनलीशिंग द हेरिटेज पोटेंशियल फॉर डोमेस्टिक टूरिज्म” है थीम

मनरेगा लेबर का उपयोग हेरिटेज होटलों के पुनरुद्धार और निर्माण कार्य के लिए किया जा सकता है”

जयपुर, 13 सितंबर 2023(न्याय स्तंभ) मनरेगा लेबर को उन हेरिटेज होटल साइट्स पर काम दिया जा सकता है, जहां निर्माण कार्य या पुनरुद्धार और नवीनीकरण का काम चल रहा है। इससे उन्हें काम के लिए बेहतर स्थिति और अवसर मिलेंगे। राजस्थान में लगभग 200 हेरिटेज होटल हैं, इसमें आगे विकास की काफी संभावनाएं हैं, जिससे रोजगार के प्रचुर अवसर पैदा होंगे। यह सुझाव राजस्थान पर्यटन विभाग में इंडियन हेरिटेज होटल्स एसोसिएशन (आईएचएचए) की ओर से राजस्थान मिशन 2030 के लिए आयोजित बैठक में दिया गया। आईएचएचए के अध्यक्ष रणधीर विक्रम सिंह मंडावा ने जयपुर में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी।

रणधीर विक्रम सिंह ने आगे बताया कि भारत में हेरिटेज टूरिज्म को प्रमोट करने की तरफ एक प्रयास के साथ इंडियन हेरिटेज होटल्स एसोसिएशन (आईएचएचए) के 10वें एनुअल कन्वेंशन का मुख्य फोकस हेरिटेज की क्षमताओं के कुशल उपयोग पर होगा। आईएचएचए कन्वेंशन 2023 की थीम “अनलीशिंग द हेरिटेज पोटेंशियल फॉर डोमेस्टिक टूरिज्म” है।

आईएचएचए के महासचिव गज सिंह अलसीसर ने कहा कि उद्योग के विभिन्न विशेषज्ञों द्वारा विभिन्न प्रकार के अनूठे सेशंस और प्रजेंटेशंस जैसे – ‘टॉक ऑन फ्यूचर विजन फॉर हेरिटेज टूरिज्म- एस्पिरेशंस’; ‘डेस्टिनेशन वेडिंग: ट्रैंड्स, कस्टमर एंड क्लाइंट एक्पेक्टेशंस, रिसोर्सेज, पोटेंशियल’, ‘वेलनैस- अ की ड्राइवर ऑफ डोमेस्टि टूरिज्म’, आदि, मेम्बर्स और डेलिगेट्स के बीच ज्ञान साझा करने के दिलचस्प अवसर प्रदान करेंगे।

कार्यक्रम पर प्रकाश डालते हुए कन्वेंशन चेयरमैन राजेंद्र सिंह पचार ने बताया कि एग्जीबिशन का उद्घाटन 15 सितम्बर को दोपहर 1 बजे किया जायेगा। आईएचएचए कन्वेंशन के पहले दिन 9th हाउस, संस्थापक और सीईओ, अल्पा पटेल द्वारा ‘एआई इन हॉस्पिटैलिटी: द इम्पैक्ट ऑफ आर्टिफिशियल इन्टेलिजेंस ऑन होटल इंडस्ट्री’; ट्रूली इंडिया, प्रबंध निदेशक, नरेश अरोड़ा द्वारा ‘होटल टाई-अप और संपत्तियों का प्रबंधन’; के.एम दस्तूर रीइंश्योरेंस ब्रोकर्स प्राइवेट लिमिटेड से राजीव मुटनेजा द्वारा ‘इन्ट्रोडक्शन ऑन इंश्योरेंस एंड रीइंश्योरेंस ब्रोकर्स’ आदि विभिन्न विषयों पर प्रजेंटेशंस भी आयोजित होंगी।

आईएचएचए के दूसरे दिन (16 सितंबर) को उद्घाटन सत्र में भारत के प्रधान मंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य संजीव सान्याल द्वारा ‘थिंकिंग ऑफ हेरिटेज एज इकोनॉमिक एंड कल्चरल कैपिटल’ विषय पर मुख्य संबोधन दिया जाएगा।उद्घाटन सत्र को प्रमुख शासन सचिव पर्यटन, राजस्थान सरकार, गायत्री राठौड़, संयुक्त सचिव पर्यटन, भारत सरकार, सिनरेम, भारत सरकार के पर्यटन सचिव, मध्य प्रदेश सरकार के पर्यटन सचिव और महाराष्ट्र सरकार के पर्यटन सचिव भी संबोधित करेंगे।

इसके अतिरिक्त, सेशन में आईएचएचए के प्रेसिडेंट ऑफ ऑनर (एमेरिटस), एचएच महाराजा गजसिंह ऑफ जोधपुर द्वारा ‘टॉक ऑन फ्यूचर विजन फॉर हेरिटेज टूरिज्म- एस्पिरेशंस’ और कंसल्टिंग सीईओ फेथ, श्री आशीष गुप्ता द्वारा ‘फेथ एक्टिविटीज पर रिपोर्ट’ विषय पर प्रजेंटेशंस दी जाएगी।

आईएचएचए के संयुक्त सचिव पृथ्वी सिंह कानोता ने कहा कि दूसरे दिन ‘फिल्म टूरिज्म’; ‘रीडिफाइनिंग प्रोडक्ट फॉर चिल्ड्रन, टीन्स, यूथ, एडल्ट्स, सीनियर सिटीजन; हेरिटेज टूरिज्म, हिस्ट्री, कल्चर के मूल्य के बारे में डोमेस्टिक ट्रैवलर्स के बीच रचनात्मक जागरूकता और मार्केटिंग; ‘डेस्टिनेशन वेडिंग: ट्रैंड्स, कस्टमर और ग्राहकों की अपेक्षाएं, आवश्यक संसाधन, संभावनाएं’; ‘हेरिटेज की अदालत’, ‘हिडंन टैलेंट एंड द वे फॉरवर्ड बाय नेक्स्ट जनरेशन’, आदि जैसे विषयों पर कई इंटरैक्टिव सेशन और प्रजेंटेशंस भी होंगे। इसके अतिरिक्त, सेलिब्रिटी शेफ थॉमस जाकरायस ‘मिलैट्स सहित स्थानीय व्यंजनों’ पर एक प्रजेंटेशन भी देंगे।

आईएचएचए और हेरिटेज टूरिज्म मूवमेंट के बारे में

हेरिटेज टूरिज्म मूवमेंट के परिणामस्वरूप 1990 में इंडियन हेरिटेज होटल्स एसोसिएशन (IHHA) अस्तित्व में आया – जिसे हेरिटेज बिल्डिंग्स को उत्पादक बनाने और उनके रख रखाव के लिए शुरू किया गया था। इसके बाद, 1 जनवरी, 1990 को भारत सरकार के पर्यटन और संस्कृति विभाग द्वारा विरासत वर्गीकरण को मान्यता मिली। इस प्रकार आईएचएचए का गठन 1990 में हुआ था और इसे 2001 में पंजीकृत किया गया था। एसोसिएशन का मुख्य उद्देश्य हेरिटेज होटलों को संरक्षित और पुनर्जीवित करके विरासत पर्यटन को बढ़ावा देना है। यह साथ में, भारत की समृद्ध, सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और स्थापत्य विरासत को पुनर्जीवित करने में भी मदद करता है। इसके अलावा, यह इन हेरिटेज होटलों के माध्यम से अपने कौशल का परिचय देकर पारंपरिक कला, शिल्प, संगीत और लोककथाओं को पुनर्जीवित करने के लिए बढ़ावा भी देता है। भारत सरकार ने जनवरी 1991 में हेरिटेज होटलों को एक अलग श्रेणी के रूप में मान्यता दी और हेरिटेज होटलों को तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया- ‘हेरिटेज’, ‘हेरिटेज क्लासिक’ और ‘हेरिटेज ग्रैंड’।



न्याय की अवधारणा को सशक्त बनाने हेतु समाचार पत्र न्याय स्तम्भ के माध्यम से एक अभियान चलाया जा रहा है। आइए अन्याय और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए आप भी हमारा साथ दीजिये। संपर्क करें-8384900113


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *