प्रधानमंत्री मोदी ने भीलवाड़ा में भगवान देवनारायण के दर्शन कर मांगा गुर्जरों का साथ

218

गुर्जर वोटों को साधने की कोशिश में भाजपा

जयपुर 28 जनवरी 2023 (न्याय स्तंभ) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुर्जरों के आराध्य भगवान देवनारायण के जन्मोत्सव कार्यक्रम में शामिल होने के लिए राजस्थान के भीलवाड़ा पहुंचे। उन्होंने मालासेरी डूंगरी में दर्शन के बाद मोदी ने गुर्जरों को संबोधित करते हुए कहा कि आपका और हमारा गहरा नाता है। भगवान देवनारायण का जन्म कमल पर हुआ है और हमारी तो पैदाइश ही कमल से है। उन्होंने इसको संयोग बताते हुए कहा कि देवनारायण के जन्म का 1111वां वर्ष और भारत को जी-20 की अध्यक्षता मिली है। जी-20 के लोगो में दुनिया को कमल पर बैठाया है। पीएम ने यहां एक बड़ी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भगवान देवनारायण का बुलावा आए तो कोई मौका नहीं छोड़ता, इसीलिए मैं हाजिर हो गया। ये कोई प्रधानमंत्री यहां नहीं आया है, मैं पूरे भक्तिभाव से आप ही की तरह एक यात्री के रूप में आशीर्वाद लेने आया हूं। उम्मीद जताई जा रही थी कि मोदी देवनारायण मंदिर का कॉरिडोर बनाने की घोषणा कर सकते हैं, लेकिन उन्होंने कोई घोषणा नहीं की।

मोदी ने कहा कि मुझे यज्ञशाला में पूर्णाहुति देने का भी सौभाग्य मिला। मेरे लिए यह भी सौभाग्य का विषय है कि मुझे जैसे सामान्य व्यक्ति को आज आपके बीच आकर भगवान देवनारायण का और उनके भक्तों का आशीर्वाद प्राप्त करने का पुण्य मिला है। भारत को तोड़ने के कई प्रयास हुए। हम भारत के हजारों वर्षों पुराने अपने इतिहास, संस्कृति और सभ्यता पर गर्व करते हैं। दुनिया की अनेक सभ्यताएं समय के समाप्त हो गईं। परिवर्तनों के साथ खुद को ढाल नहीं पाईं। भारत को भी भाैगोलिक, सामाजिक, सांस्कृतिक रूप से तोड़ने के बहुत प्रयास हुए, लेकिन भारत को कोई ताकत समाप्त नहीं कर पाई।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत सिर्फ एक भू-भाग नहीं है, बल्कि हमारी श्रृद्धा की एक अभिव्यक्ति है, इसलिए वैभवशाली भविष्य की नींव भारत रख रहा है। इसके पीछे सबसे बड़ी प्रेरणा, सबसे शक्ति हमारे समाज की है। देश बीते दशकों की भूल सुधार रहा है। राजस्थान की धरती जन-जन के संघर्ष और संयम की धरती है। इस धरती पर तेजाजी से पाबूजी तक, गोगाजी से रामदेव तक, बप्पा रावल से महाराणा प्रताप तक यहां के महापुरुषों, जननायकों और लोकदेवाओं और समाज सुधारकों ने देश को रास्ता दिखाया है। इतिहास का शायद ही ऐसा कोई कालखंड हो जिसमें इस धरती ने देश को प्रेरणा न दी हो। इसमें भी गुर्जर समाज का शौर्य पराक्रम देशभक्ति का पर्याय रहा।

उन्होंने गुर्जर समाज के शोर्य गाथा बताते हुए कहा कि देश और संस्कृति की रक्षा में गुर्जर समाज ने प्रहरी की भूमिका निभाई। गुर्जर समाज के क्रांतिवीर भूप सिंह गुर्जर (विजय सिंह पथिक) के नेतृत्व में बिजौलिया किसान आंदोलन हुआ। इसके अलावा धनसी जी, जोगराज जी जैसे योद्धा रहे जिन्होंने देश के लिए जीवन दे दिया। उन्होंने राम प्यारी गुर्जर, पन्ना धाय जैसी गुर्जर समाज की बहन बेटियों ने देश और संस्कृति की सेवा की। यह देश का दुर्भाग्य है कि ऐसे अनगिनत सेनानियों को हमारे इतिहास में वो स्थान नहीं मिल पाया जिसके वो हकदार थे, जो उन्हें मिलना चाहिए था। लेकिन आज का भारत बीते दशकों में हुई भूलों को सुधार रहा है।

मोदी ने कहा की हम सबको एकजूट होकर विकास के लिए काम करना है। पूरी दुनिया भारत की ओर उम्मीदों से देख रही है। भारत ने जिस तरह पूरी दुनिया को सामर्थ्य दिखाया है, शूरवीरों की इस धरती का भी गौरव बढ़ाया है। भारत दुनिया के हर बड़े मंच पर अपनी बात डंके की चोट पर कहता है। भारत अपनी निर्भरता दूसरों पर कम कर रहा है। ऐसी बात जो देश की एकता के लिए खिलाफ है, उससे दूर रहना है।हमने सभी के लिए दरवाजे खोले हैं। उन्होंने कहा- आप याद करें कि राशन कितना मिलेगा, मिलेगा या नहीं, यह बड़ी चिंता होती थी। आज हर लाभार्थी को मुफ्त राशन पूरा मिल रहा है, अस्पताल में मुफ्त इलाज, घर-शौचालय, बिजली, गैस कनेक्शन की चिंता दूर कर दी है। बैंक से लेन-देन कम लोगों को नसीब था, आज सबके लिए दरवाजे खोल दिए हैं। मोदी ने कहा कि पानी का क्या महत्व होता है, ये राजस्थान से बेहतर कौन जान सकता है, लेकिन आजादी अनेक दशकों बाद भी देश में 16 करोड़ से ज्यादा ग्रामीण परिवारों को संघर्ष करना पड़ता था, बीते साढ़े 3 साल के भीतर देश में हुए प्रयास के कारण 11 करोड़ परिवारों तक पाइप से पानी पहुंच रहा है।



न्याय की अवधारणा को सशक्त बनाने हेतु समाचार पत्र न्याय स्तम्भ के माध्यम से एक अभियान चलाया जा रहा है। आइए अन्याय और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए आप भी हमारा साथ दीजिये। संपर्क करें-8384900113


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *