जयपुर-राजस्थान विवि में दलित महिला के साथ प्रमोशन में भेदभाव

622

पहली बार पोद्दार मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट को मिलेगी दलित डायरेक्टर

वर्तमान डायरेक्टर हर्ष द्विवेदी 4 नवम्बर को हो रहे हैं सेवानिवृत

महिला प्रोफेसर राज्यपाल को करेगी शिकायत

संतोष शर्मा
जयपुर. 15 अक्टूबर, 2022 (न्याय स्तंभ) राजस्थान विवि के प्रबन्धन संस्थान को पहली बार दलित महिला डायरेक्टर मिलेगी। संस्थान में वर्तमान डायरेक्टर के अलावा एकमात्र यही महिला असिस्टेंट प्रोफेसर स्थाई स्टाफ है। बाकी,सभी गेस्ट फैकल्टी के तौर पर कार्यरत है।
लेकिन, इस दलित महिला प्रोफेसर के साथ वर्तमान डायरेक्टर प्रोफेसर हर्ष द्विवेदी व विवि प्रशासन षडयंत्र कर रहे हैं। वे संस्थान से बाहर के विभाग के फैकल्टी को संस्थान का निदेशक बनाने की योजना को मूर्तरूप देने की योजना बना रहे हैं।
वर्तमान डायरेक्टर व विवि प्रशासन दीपावली अवकाश से पूर्व ही इस योजना को अमलीजामा पहना कर अन्य विभाग के ऊंची जाति के प्रोफेसर को निदेशक बनाने की फेर में है। जिससे दलित महिला स्थाई असिस्टेंट प्रोफेसर तनावग्रस्त है।
सूत्रों ने बताया कि महिला के साथ प्रमोशन में भेदभाव होता है,तो वे इसकी शिकायत लिखित में राज्यपाल से करेगी।
वहीं,दूसरी ओर वर्तमान निदेशक नहीं चाहते कि उनके बाद संस्थान में सवर्ण के स्थान पर कोई दलित महिला डायरेक्टर बने।
द्विवेदी अपने चहेते गेस्ट फैकल्टी पर मेहरबान
प्रमोशन के इस भेदभाव के अलावा वर्तमान निदेशक हर्ष द्विवेदी इस समय संस्थान में कार्यरत अपने चहेते 2 गेस्ट फैकल्टी पर भी पूरी तरीके से आर्थिक लाभ देकर मेहरबानी कर रहे हैं।
सूत्रों ने बताया कि दो गेस्ट फैकल्टी को 35 हजार रूपए प्रतिमाह वेतन के अलावा 15-15 हजार रूपए अतिरिक्त मानदेय दिया जा रहा है। जिसे निदेशक ने ऊंचे रसूखात का इस्तेमाल करते हुए विवि प्रशासन में कुलपति व एफओ से भी सेंशन करवा लिया है।
वहीं,दूसरी ओर इन गेस्ट फैकल्टी को ओवर टाइम के बतौर भी कक्षाएं दी जा रही है। जबकि, स्थाई फेकल्टी पर कार्यरत दलित महिला को ये कक्षाएं 9 साल की सेवाओं के बाद भी नियमित तौर पर नहीं दी जा रही है।
गौरतलब है कि वर्तमान निदेशक हर्ष द्विवेदी 4 नवम्बर को विवि से सेवानिवृत हो रहे हैं।
फिर भी वे चाह रहे है कि उनके स्थान पर उन्हीं के मातहत रहने वाला ऊंची जाति का ही फैकल्टी डायरेक्टर बनकर आए,जिससे उन्हें भविष्य में भी आर्थिक के साथ अन्य लाभ भी मिलते रहे।
सूत्रों ने बताया कि खबर है कि वर्तमान निदेशक सेवानिवृत के बाद जल्द ही एक अन्य विवि के कुलपति बनने वाले है।



न्याय की अवधारणा को सशक्त बनाने हेतु समाचार पत्र न्याय स्तम्भ के माध्यम से एक अभियान चलाया जा रहा है। आइए अन्याय और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए आप भी हमारा साथ दीजिये। संपर्क करें-8384900113


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *