BREAKING NEWS
Search

जयपुर-भोले-भाले लोगों से ठगी, कभी हैंडीक्राफ्ट का सामान तो कभी लोन देने के नाम पर ठगी

272

सैकड़ों लोगों के लगाई लाखों की चपत,विधायकपुरी थाने ने लिया परिवाद, अभी तक दर्ज नहीं हुआ मामला

करीब 200 लोगों से हैंडीक्राफ्ट सामान बनाने के लिए 15000 रुपये किये जमा

लोन दिलवाने के लिए भी करीब 200 लोगों से ठगी


मतीष पारीक
जयपुर 6 सितंबर 2022 (न्याय स्तंभ)
जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा हड़पने के लिए ठगों द्वारा अलग-अलग हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। वहीं बार-बार ठगी का शिकार होने वाली भोली-भाली जनता भी इन ठगों का आराम से निशाना बन जाती है।
जी हां ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां हेंडीक्राफ्ट सामान बनाने के बदले लाखों रुपये कमाने का प्रलोभन जनता को दिया गया। बेरोजगार युवा, महिलाएं और कुछ बुजुर्ग भी जब शहर में लगे पोस्टर देख कर कंपनी के कार्यालय पहुंचे थे उन्हें बेवकूफ बना कर प्रत्येक व्यक्ति से 15000 रुपए सिक्योरिटी मनी के नाम पर जमा कर लिए गए। यहीं उनका कारनामा नहीं रुका उन्होंने रसीद के साथ एक पेज का एग्रीमेंट भी कर डाला।

लोगों को अपने झांसे में लेने के लिए कंपनी द्वारा कुछ पेआउट दे दिया गया लेकिन जब दूसरी बार वे अपना पैसा लेने पहुंचे तो कार्यालय पर ताला और वहां कार्यरत सभी लोगों के फ़ोन बंद मिले। जब लोगों को अपने साथ हुई ठगी का अहसास हुआ तो परेशान होकर पीड़ितों ने विधायकपुरी थाने में अपने साथ हुई ठगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। ठगी के शिकार लोगों ने बताया कि उनसे पहले हेंडीक्राफ्ट सामान बनाने और फिर लोन देने के नाम पर ठगी की गई।

सी-स्कीम के विनोबा मार्ग स्थित गीता एनक्लेव की सेकंड फ्लोर पर 206 नंबर के आफिस को ठगों ने अपना कार्यालय बनाया था। एरनोटा एंड कंपनी के नाम से खुले ऑफिस में करीब आधा दर्जन लोगों का स्टाफ कार्यरत था जो अलग-अलग काम में लगा हुआ था। उन्होंने बताया कि कंपनी ने पहले तो हमसे बड़े बड़े वादे किए फिर अपना ऑफिस बंद कर भाग गई।

विधायकपुरी थाने में दी शिकायत
ठगी के शिकार लोगों ने विधायकपुरी थाने में कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है जिसके तहत थाने में अभी परिवाद लिया गया है।

शिकयत दर्ज करवाने वालों में मोहम्मद शरीफ, सोनू गुप्ता, पन्नालाल सैनी, उस्मान, मुकेश योगी, सुमेर सिंह, इस्लाम खान, आदिल खान, अदनान कुरैशी,समीर कुरैशी, मोहम्मद इसरार,गौरव ने शिकयत दर्ज करवाते हुए बताया कि कंपनी के सुरेंद्र, पंकज और संजय जिनके मोबाइल भी बंद हैं ने हैण्डीक्राप्ट कार्य हेतु सिक्योरिटी के तौर पर पन्द्रह हजार प्रत्येक बन्दे से जमा करवाये थे, जिसके बदले 30 हजार का कच्चा माल कंपनी द्वारा दिया गया। जिसको बनाकर प्रत्येक बन्दे ने 31 अगस्त 2022 को कंपनी के कार्यालय में जमा करा दिया था। वहां मौजूद स्टाफ ने 1 से 5 सितम्बर के बीच पेमेन्ट देने हेतू बोला पर आज हम सभी लोग ऑफिस गये तो ऑफिस बन्द मिला तथा स्टाफ के मोबाइल नम्बर भी बंद आ रहे है।

विधायकपुरी थाने के ड्यूटी ऑफिसर दीपेंद्र सिंह ने बताया कि कल से बहुत लोगों ठगी के मामले की शिकायत लेकर थाने आ रहे हैं। हमने परिवाद दर्ज किया है। अभी तक किसी के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट नहीं दर्ज की है। वहीं मामले में अनुसंधान कर रहे थाने के हेडकॉस्टेबल राजकुमार से उनका फ़ोन बंद होने की वजह से बात नहीं हो पाई।



न्याय की अवधारणा को सशक्त बनाने हेतु समाचार पत्र न्याय स्तम्भ के माध्यम से एक अभियान चलाया जा रहा है। आइए अन्याय और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने के लिए आप भी हमारा साथ दीजिये। संपर्क करें-8384900113


Leave a Reply

Your email address will not be published.