एच.सी.जी. हॉस्पिटल मानसरोवर में औषधि नियंत्रण संगठन की कार्रवाई

एच.सी.जी. हॉस्पिटल मानसरोवर में औषधि नियंत्रण संगठन की कार्रवाई

एच.सी.जी. हॉस्पिटल मानसरोवर जयपुर मैं बगैर फार्मासिस्ट चल रही दुकान पर औषधि नियंत्रण संगठन की कार्रवाई

जयपुर। 7 जून 2021. शहर के कई सारे निजी अस्पतालों में कोरोना काल में अनियमितताएं देखने को मिली है। कहीं मरीजों से बेहिसाब वसूली तो कहीं बिना जरूरत ही महंगा इलाज करने की  शिकायतें। इसी बीच आज औषधि नियंत्रक राजाराम शर्मा के नेतृत्व में जयपुर के मानसरोवर स्थित एच.सी.जी. हॉस्पिटल नारकोटिक्स की दवाइयों के क्रय विक्रय से संबंधित जांच की गई।  जांच में अस्पताल की 24 घंटे चलने वाली फार्मेसी में एक भी फार्मासिस्ट उपस्थित नहीं पाया गया। 
शर्मा ने बताया कि नारकोटिक औषधियों ( Morphine and Fentanyl Injection) के संधारण स्टॉक बिलिंग और बैच नंबर में कई गड़बड़ियां पाई गई। वहां भर्ती मरीजों के लिएउपयोग की जा रही नारकोटिक औषधियों के रजिस्टर में दवाइयों का नाम, बैच नंबर, क्वांटिटी से संबंधित सूचना अंकित नहीं पाई गई। इसी प्रकार औषधियों का संधारण भी सही नहीं पाया गया । अस्पताल फार्मेसी द्वारा शेड्यूल H1 औषधियों का रिकॉर्ड भी संधारित नहीं मिला।  उक्त अस्पताल फार्मेसी के विरुद्ध औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाएगी।  सहायक औषधि नियंत्रक महेंद्र जोनवाल, डीसीओ सिंधु कुमारी, महेश बयाडवाल की टीम ने द्वारा की अस्पताल पर कार्रवाई।